यही तो माया है|

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रेम और अहंकार कभी साथ नहीं चल सकते|हम प्रेम ही तो हैं….इसको पाने की ज़िद और पा कर अहंकार होना माया ही तो है| 

” तो क्या फिर मेरे अंदर का प्रेम सिर्फ एक भ्रम हैतो मतलब जो मैं चुनती हूँ वही सत्य हो गया मेरा ? हँसी आती है अपने आप पर 

जब इस सवाल को देखती हूँकभी अहंकार को प्रेम समझने की ग़लती कर अपने ही प्रेम स्वरूप का त्याग करने की भूल हम कर 

देते हैयही तो माया है| “ 

 

स्वाहापॉन्डिचेरी 

प्रेमसत्या और अहंकार 

किसी साँझ की सिन्दूरी शाम जैसेप्रेम हर दिल को छू ही लेता हैप्रेम की माया ही ऐसी हैसांसो की कौन सी लय से धड़कन बन जाए पता ही 

नहीं चलताहम भूल जाते है की प्रेम ने हमे पहले ही चुन लिया है तो हम प्रेम को कैसे चुन सकते हैवह तो है मेरे अंदरकही बहुत भीतर– इस 

तरह छिपा हुआके स्वार्थ और मोह की परत उठालूँ तो सैलाब सा  जायेगातो फिर किस बात का डर हैडूब जाने कापर फिर किनारे भी 

कौन से मेरे है ? क्या है मुझ में ऐसा जो यह बांध टूट नहीं रहापता था पर अनजान बनने का अपना ही सुख हैप्रेम और अहंकार साथ-साथ 

नहीं चल सकतेपर प्रेम ने तो मुझे चुन लिया है और अहंकार जन्मों का संस्कारउसने कहा तुम सत्य को जानोमैंने कहा दोनों ही मेरे अंदर है

तो क्या फिर मेरे अंदर का प्रेम सिर्फ एक भ्रम हैतो मतलब जो मैं चुनती हूँ वही सत्य हो गया मेरा ? हँसी आती है अपने आप पर जब इस सवाल 

को देखती हूँकभी अहंकार को प्रेम समझने की ग़लती कर अपने ही प्रेम स्वरूप का त्याग करने की भूल हम कर देते हैयही तो माया है

अहंकार को प्रेम समझना और प्रेम को भूल जाना क्योंकि प्रेम कभी अहंकार का रूप ना ले पाया है और ना लेगाप्रेम पाने की ज़िद ने अंदर के 

प्रेम को कभी बहने ही नहीं दियाना बेटीना बेहेनना बीवी ना प्रेमिका बन करजन्मों की एक चाह और ज़रूरतो को प्रेम का नाम देकर हम 

बाजार में बोली लगाने बैठ जाते हैंअहंकार को प्रेम समझना ये भ्रम हैप्रेम तो तू है और यदि तू प्रेम नहीं तो कुछ भी सत्य नहीं है| 

प्रेम के दर्द को महसूस कर| 

पर ये होता कैसा है ?  

तेरी सांसों जैसाजिनकी ख़ुशबू तो महसूस होती है पर मैं अपने अंदर भर नहीं सकतीतेरे स्पर्श जैसा जो तेरे ना होने पर भी महसूस होता हैतेरी 

नज़रों जैसा जो ना होने पर भी मुझे देखती हैके तू दीखता तो है पर कही नज़र नहीं आताके शिकायत है तुझसे पर दिल दुआ भी तेरी ही मांगता 

हैशुक्रिया तेरा के तुझसे गुज़रते मेरे दिल ने प्रेम का अनुभव तो कियाशायद इससे यूँही गुज़रते हुए एक दिन मैं प्रेम बन जाऊँतो अहंकार को

 प्रेम समझने की ज़िद छूट जाएस्वार्थ और मोह की परत उठ जाएइस पूरी यात्रा में पीछे मुड़ कर देखती हूँ तो अपने लिए बस प्रेम ही दीखता है

फिर महसूस क्यों नहीं कियाक्योंकि प्रेम का मतलब अपनी ज़रूरतोंअपना ख़ालीपन का दूर होनाइन स्वार्थ भरी नज़रों से देखा था मैंने– तो 

कैसे होता प्रेम महसूसएक ख़ालीपन सा  गया हैके जीवन भर जो मैं हूँ उसे समझा नहीं बस ज़रूरतों को पूरी करती रही।

 और ज़रूरतों की पूर्ति कभी कहाँ होती हैं?! क्यों नहींक्या सच इनकी मुझे जरूरत थी या बस मेरा घमंड थारिश्तों में प्रेम ना बहे तो ख़तम हो 

ही जाते है जैसे ऑक्सीजन ना मिलने पर कोशिकाप्रेम पाने की चाह से प्रेम करोगे तो अपने सत्य से एक दिन दूर हो ही जाओगेबस इतना ही 

सिख पाई मैं| 

के हर शमा मेरे दिल की इस दर्द से रौशन रहे| 

के वो ना सही उनके ज़िक्र से मेरी महफ़िल सजती हो| 

बस बता दे एकबार मेरे ख़ता की सज़ा क्या है| 

तेरे कदमों के अलावा मेरी जगह कहाँ है? 

 

SHARAYU NAIK 

NV Life Coach 

 

Responses